खबरे |

खबरे |

Vladimir Putin News: रिकॉर्ड बहुमत के साथ 5वीं बार रूस के राष्ट्रपति बने व्लादिमीर पुतिन, मिले 88% वोट
Published : Mar 18, 2024, 10:06 am IST
Updated : Mar 18, 2024, 10:07 am IST
SHARE ARTICLE
Vladimir Putin becomes President of Russia for the 5th time News In Hindi
Vladimir Putin becomes President of Russia for the 5th time News In Hindi

पुतिन 2000 में पहली बार रूस के राष्ट्रपति बने।

Vladimir Putin becomes President of Russia for the 5th time News In Hindi: रूस के राष्ट्रपति चुनाव में व्लादिमीर पुतिन एक बार फिर रिकॉर्ड तोड़ जीत हासिल की है. 15-17 मार्च को हुए मतदान में पुतिन 88% वोट हासिल कर लगातार 5वीं बार रूस के राष्ट्रपति बन गए हैं. उनके प्रतिद्वंद्वी निकोले खारितोनोव को 4% वोट मिले। व्लादिस्लाव दावानकोव और लियोनिद स्लटस्की तीसरे और चौथे स्थान पर रहे।

नतीजों के ऐलान के बाद पुतिन ने कहा- अब रूस और ताकतवर और असरदार बनेगा. उन्होंने रूस-नाटो विवाद पर भी चर्चा की और कहा कि अगर अमेरिका के नेतृत्व वाले सैन्य संगठन नाटो और रूस आमने-सामने आ गए तो दुनिया तीसरे विश्व युद्ध से एक कदम दूर रह जाएगी. मुझे नहीं लगता कि कोई ऐसा चाहेगा.

पुतिन 2000 में पहली बार रूस के राष्ट्रपति बने। वह 2008 तक इस पद पर रहे. 2012 में, तत्कालीन राष्ट्रपति मेदवेदेव ने अपनी पार्टी से पुतिन को एक बार फिर राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में नामित करने के लिए कहा। इसके बाद पुतिन ने 2012 का चुनाव जीता और सत्ता में वापसी की. तब से वह राष्ट्रपति पद पर बने हुए हैं।

रूसी संविधान में लिखा है कि कोई भी व्यक्ति लगातार दो बार से अधिक राष्ट्रपति नहीं रह सकता। इसके चलते 8 मई 2008 को पुतिन ने अपने प्रधानमंत्री दिमित्री मेदवेदेव को रूस का राष्ट्रपति बना दिया और खुद प्रधानमंत्री बन गये. नवंबर 2008 में, दिमित्री ने राष्ट्रपति पद का कार्यकाल 4 से 6 साल तक बढ़ाने के लिए संविधान में संशोधन किया।

 इसके बाद 2012 में पुतिन दोबारा रूस के राष्ट्रपति बने. उन्होंने राष्ट्रवाद को बढ़ावा देना जारी रखा और देश के लोगों को सोवियत संघ के प्रभाव को वापस लाने के सपने दिखाए। 2014 में पुतिन ने क्रीमिया पर हमला कर उस पर कब्ज़ा कर लिया. जनवरी 2020 में पुतिन ने एक संवैधानिक संशोधन के जरिए दो कार्यकाल के राष्ट्रपति पद की सीमा को खत्म कर दिया. इसे सही साबित करने के लिए पुतिन ने जनमत संग्रह कराया. इससे पुतिन के 2036 तक राष्ट्रपति बने रहने का रास्ता साफ हो गया है। इससे पुतिन लगभग तीन दशकों तक सोवियत संघ पर शासन करने वाले स्टालिन से आगे हो जाएंगे।
 
रूस की राजनीतिक व्यवस्था

रूस की संसद, जिसे फ़ेडरल असेंबली कहा जाता है, के भी भारत की तरह दो भाग हैं। ऊपरी सदन को फेडरेशन काउंसिल और निचले सदन को स्टेट डुमा कहा जाता है। रूस में राष्ट्रपति का पद सबसे शक्तिशाली होता है. भारत में प्रधानमंत्री की जो भूमिका रूस में राष्ट्रपति  की है। सत्ता की दृष्टि से दूसरा सबसे शक्तिशाली व्यक्ति प्रधानमंत्री होता है, तीसरा सबसे शक्तिशाली व्यक्ति संघीय परिषद (उच्च सदन) का अध्यक्ष होता है।

फोर्ब्स के अनुसार, व्लादिमीर पुतिन को 2013 से 2016 तक लगातार चार बार दुनिया का सबसे शक्तिशाली व्यक्ति घोषित किया गया था। व्लादिमीर पुतिन को रूस का सबसे अमीर आदमी माना जाता है। पुतिन की बेटियां रूस की सबसे अमीर लड़कियों में से हैं। इसके अलावा पुतिन ने रूसी अरबपतियों के समूह 'ऑलिगार्की’ पर भी अपनी पकड़ मजबूत कर ली है।

(For more news apart from Vladimir Putin becomes President of Russia for the 5th time News In Hindi, stay tuned to Rozana Spokesman)

SHARE ARTICLE

ROZANASPOKESMAN

Advertisement

 

हम डांसर है कॉल गर्ल नहीं हमारी भी इज्जत है

02 Apr 2024 5:04 PM

#Vicky की मां का #Attitude लोगों को नहीं आया पसंद! बोले- हमारी अंकिता तुम्हारे बेटे से कम नहीं

17 Jan 2024 11:07 AM

चंद्रयान-3 के बाद ISRO ने का एक और कमाल, अब इस मिशन में हासिल की सफलता

11 Aug 2023 7:01 PM

अरे नीचे बैठो...प्रधानमंत्री पर उंगली उठाई तो औकात दिखा दूंगा', उद्धव गुट पर भड़के केंद्रीय मंत्री

11 Aug 2023 6:59 PM

शिमला में नहीं थम रहा बारिश का कहर, देखिए कैसे आंखों के सामने ढह गया आशियाना

11 Aug 2023 6:57 PM